deepak

१९१२ स्कन्द षष्ठी व्रत के दिन उज्जैन, मध्यप्रदेश, इण्डिया के लिए

deepak
Useful Tips on
Panchang
Switch to English
Empty
Title
१९१२ स्कन्द षष्ठी
वर्ष:
ग्लोब
अपना शहर खोजें:
१९१२ स्कन्द षष्ठी व्रत के दिन उज्जैन, इण्डिया के लिए

स्कन्द षष्ठी, कन्द षष्ठी व्रतम १९१२

स्कन्द षष्ठी
स्कन्द षष्ठी
तमिल हिन्दुओं के बीच स्कन्द एक प्रसिद्ध देवता हैं। स्कन्द देव भगवान शिव और देवी पार्वती के पुत्र और भगवान गणेश के छोटे भाई हैं। भगवान स्कन्द को मुरुगन, कार्तिकेय और सुब्रहमन्य के नाम से भी जाना जाता है।

षष्ठी तिथि भगवान स्कन्द को समर्पित हैं। शुक्ल पक्ष की षष्ठी के दिन श्रद्धालु लोग उपवास करते हैं। षष्ठी तिथि जिस दिन पञ्चमी तिथि के साथ मिल जाती है उस दिन स्कन्द षष्ठी के व्रत को करने के लिए प्राथमिकता दी गयी है। इसीलिए स्कन्द षष्ठी का व्रत पञ्चमी तिथि के दिन भी हो सकता है।

स्कन्द षष्ठी को कन्द षष्ठी के नाम से भी जाना जाता है।
kalash १९१२  kalash
decoration
२५ जनवरी (बृहस्पतिवार) स्कन्द षष्ठी
२३ फरवरी (शुक्रवार) स्कन्द षष्ठी
२४ मार्च (रविवार) स्कन्द षष्ठी
२२ अप्रैल (सोमवार) स्कन्द षष्ठी
२१ मई (मंगलवार) स्कन्द षष्ठी
१९ जून (बुधवार) स्कन्द षष्ठी
१९ जुलाई (शुक्रवार) स्कन्द षष्ठी
१७ अगस्त (शनिवार) स्कन्द षष्ठी
१६ सितम्बर (सोमवार) स्कन्द षष्ठी
१५ अक्टूबर (मंगलवार) स्कन्द षष्ठी
१४ नवम्बर (बृहस्पतिवार) सूर सम्हारम
१४ दिसम्बर (शनिवार) सुब्रहमन्य षष्ठी
decoration
सूर्योदय और सूर्यास्त के मध्य में जब पञ्चमी तिथि समाप्त होती है या षष्ठी तिथि प्रारम्भ होती है तब यह दोनों तिथि आपस में संयुक्त हो जाती है और इस दिन को स्कन्द षष्ठी व्रत के लिए चुना जाता है। इस नियम का धरमसिन्धु और निर्णयसिन्धु में उल्लेख किया गया है। तिरुचेन्दुर में प्रसिद्ध श्री सुब्रहमन्य स्वामी देवस्थानम सहित तमिल नाडु में कई मुरुगन मन्दिर इसी नियम का अनुसरण करते हैं। अगर एक दिन पूर्व षष्ठी तिथि पञ्चमी तिथि के साथ संयुक्त हो जाती है तो सूरसम्हाराम का दिन षष्ठी तिथि से एक दिन पहले देखा जाता है।

हालाँकि सभी षष्ठी तिथि भगवान मुरुगन को समर्पित है लेकिन कार्तिक चन्द्र मास (ऐप्पासी या कार्तिकाई सौर माह) के दौरान शुक्ल पक्ष की षष्ठी सबसे मुख्य होती है। श्रद्धालु इस दौरान छः दिन का उपवास करते हैं जो सूरसम्हाराम तक चलता है। सूरसम्हाराम के बाद अगला दिन तिरु कल्याणम के नाम से जाना जाता है।

सूरसम्हाराम के बाद आने वाली अगली स्कन्द षष्ठी को सुब्रहमन्य षष्ठी के नाम से जाना जाता है जिसे कुक्के सुब्रहमन्य षष्ठी भी कहते हैं और यह मार्गशीर्ष चन्द्र मास के दौरान पड़ती है।

भगवान मुरुगन के प्रसिद्ध मन्दिर

निम्नलिखित छः आवास जिसे आरुपदै विदु के नाम से जाना जाता है, इण्डिया के तमिल नाडु प्रदेश में भगवान मुरुगन के भक्तों के लिए बहुत ही मुख्य तीर्थस्थानों में से हैं।
  1. पलनी मुरुगन मन्दिर (कोयंबटूर से १०० किमी पूर्वी-दक्षिण में स्थित)
  2. स्वामीमलई मुरुगन मन्दिर (कुंभकोणम के पास)
  3. तिरुत्तनी मुरुगन मन्दिर (चेन्नई से ८४ किमी)
  4. पज्हमुदिर्चोलाई मुरुगन मन्दिर (मदुरई से १० किमी उत्तर में स्थित)
  5. श्री सुब्रहमन्य स्वामी देवस्थानम, तिरुचेन्दुर (तूतुकुडी से ४० किमी दक्षिण में स्थित)
  6. तिरुप्परनकुंद्रम मुरुगन मन्दिर (मदुरई से १० किमी दक्षिण में स्थित)
मरुदमलै मुरुगन मन्दिर (कोयंबतूर का उपनगर) एक और प्रमुख तीर्थस्थान हैं।

इण्डिया के कर्णाटक प्रदेश में मंगलौर शहर के पास कुक्के सुब्रमण्या मन्दिर भी बहुत प्रसिद्ध तीर्थस्थान है जो भगवान मुरुगन को समर्पित हैं लेकिन यह भगवान मुरुगन के उन छः निवास स्थान का हिस्सा नहीं है जो तमिल नाडु में स्थित हैं।
10.160.15.209
facebook button