deepak

२०२१ दुर्गा पूजा कैलेण्डर उज्जैन, मध्यप्रदेश, इण्डिया के लिए

deepak
  • दुर्गा पूजा कैलेण्डर
Switch to English
Empty
Title
२०२१ दुर्गा पूजा कैलेण्डर
वर्ष:
ग्लोब
अपना शहर खोजें:
२०२१ दुर्गा पूजा के दिन, दुर्गोत्सव उज्जैन, इण्डिया के लिए
देवी दुर्गा का आगमन पालकी पर
देवी दुर्गा का प्रस्थान हाथी पर

दुर्गा पूजा का दिन २


देवी दुर्गा
१२th
अक्टूबर २०२१
(मंगलवार)

दुर्गा पूजा का दिन ३


देवी दुर्गा
१३th
अक्टूबर २०२१
(बुधवार)


दुर्गा पूजा का दिन ४


देवी दुर्गा
१४th
अक्टूबर २०२१
(बृहस्पतिवार)

दुर्गा पूजा का दिन ५


देवी दुर्गा
१५th
अक्टूबर २०२१
(शुक्रवार)
२०२१ दुर्गा पूजा

दुर्गा पूजा एक प्रसिद्ध हिन्दु त्यौहार है और इस दौरान देवी दुर्गा की पूजा की जाती है। दुर्गा पूजा को दुर्गोत्सव के नाम से भी जाना जाता है। दुर्गोत्सव पाँच दिनों तक मनाया जाता है। इन पाँच दिनों को षष्ठी, महासप्तमी, महाष्टमी, महानवमी और विजयदशमी के रूप में मनाया जाता है। (हिन्दु धार्मिक ग्रन्थों के अनुसार दुर्गा पूजा के साथ में चण्डी-पाठ को महालय अमावस्या के अगले दिन से शुरू किया जाना चाहिए। महालय पितृ पक्ष का सबसे महत्वपूर्ण दिन होता है। इस दिन हिन्दु लोग अपने पूर्वजों को श्रद्धान्जली अर्पित करते हैं, इसलिए यह दिन कोई भी शुभ कार्य शुरू करने के लिए सही नहीं माना जाता है।)

पश्चिम बंगाल को छोड़कर अधिकांश राज्यों में महालय अमावस्या के अगले दिन प्रतिपदा तिथि को घटस्थापना की जाती है। घटस्थापना दुर्गा पूजा के दौरान होने वाले कल्पारम्भ के समान होती है जिसमें देवी दुर्गा का आवाहन किया जाता है। सामान्यतः कल्पारम्भ देवी पक्ष के दौरान षष्ठी तिथि के दिन होता है। क्षेत्रीय प्रथा और धारणाओं के अनुसार शारदीय नवरात्रि के दौरान होने वाली दुर्गा पूजा नौ दिन से लेकर एक दिन तक हो सकती हैं जिसका उल्लेख धर्मसिन्धु में भी किया गया है।

देवी पक्ष, पितृ पक्ष की महालय अमावस्या के अगले दिन से शुरू हो जाता है। देवी दुर्गा का धरती पर आगमन देवी पक्ष के पहले दिन होता है और दुर्गा विसर्जन के दिन वह प्रस्थान करती हैं। दुर्गा माँ के आगमन और प्रस्थान वाले दिन महत्वपूर्ण होते हैं और इन दिनों से आने वाले समय का अनुमान किया जाता है। इस अनुमान के आधार पर आने वाले समय को शुभ अथवा अशुभ घोषित किया जाता है।
10.160.15.198
facebook button