Karka RashifalKanya RashifalTula RashifalVrishchika RashifalMeena RashifalRashifal
Sign InSign In SIGN IN
hi.drikPanchang.com
deepak

२०१४ रंगवाली होली | धुलंडी का दिन उज्जैन, मध्यप्रदेश, भारत के लिए

deepak
होली रंगवाली
Switch to English
Empty
Title
२०१४ होली रंगवाली
वर्ष:
ग्लोब
अपना शहर खोजें:
२०१४ रंगवाली होली | धुलण्डी का दिन उज्जैन, भारत के लिए

रंगवाली होली | धुलंडी

१७वाँ
मार्च २०१४
(सोमवार)
होली के रंग
मित्र जन होली खेलते हुए

टिप्पणी - २४ घण्टे की घड़ी उज्जैन के स्थानीय समय के साथ और सभी मुहूर्त के समय के लिए डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है)।
रंगवाली होली | धुलण्डी २०१४

होली हिन्दुओं का धार्मिक त्यौहार है जिसे विश्वभर में हिन्दु धर्म के लोगों द्वारा मनाया जाता है। दीपावली के बाद यह हिन्दुओं का दूसरा मुख्य त्यौहार है। होली को रंगों के त्यौहार के नाम से भी जाना जाता है।

होली का त्यौहार भगवान श्री कृष्ण को अत्यधिक प्रिय था। जिन स्थानों पर श्री कृष्ण ने अपने बालपन में लीलाएँ और क्रीडाएँ की थीं उन स्थानों को ब्रज के नाम से जाना जाता है। इसीलिये ब्रज की होली की बात ही निराली है। ब्रज की होली की छटा का आनन्द लेने के लिये दूर-दराज प्रदेशों से लोग मथुरा, वृन्दावन, गोवर्धन, गोकुल, नन्दगाँव और बरसाना में आते हैं। बरसाना की लट्ठमार होली तो दुनिया भर में निराली और विख्यात है।

ज्यादातर जगहों पर होली दो दिन मनायी जाती है। होली के पहले दिन को होलिका दहन, जलानेवाली होली और छोटी होली के नाम से जाना जाता है और इस दिन लोग होलिका की पूजा-अर्चना कर उसे आग में भस्म कर देते हैं। दक्षिण भारत में होलिका दहन को काम-दहनम् के नाम से मनाया जाता है। होली के दूसरे दिन को रंगवाली होली के नाम से जाना जाता है। सूखे गुलाल और पानी के रंगों का उत्सव दूसरे दिन ही मनाया जाता है। मौज-मस्ती के दिन की वजह से दूसरे दिन को होली का मुख्य दिन माना जाता है। शिक्षण संस्थानों, विद्यालयों और सरकारी दफ्तरों में होली का अवकाश दूसरे दिन ही रखा जाता है। रंगवाली होली को धुलण्डी के नाम से भी जाना जाता है।

होली के पहले दिन, सूर्यास्त के पश्चात, होलिका की पूजा कर उसे जलाया जाता है। होलिका पूजा का मुहूर्त काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। ज्यादातर लोग होलिका-दहन मुहूर्त देख कर ही करते हैं। होली का मुख्य दिन होलिका दहन के अगले दिन होता है और रंगों का उपयोग मुख्यतः इसी दिन किया जाता है। सूखे रंगों को लोग ज्यादा पसन्द करते हैं। सूखे रंगों को गुलाल के नाम से जाना जाता है। कुछ लोगों का मानना है कि पानी के रंगों से ही होली का असली आनन्द आता है और पानी के रंगों से ही होली सम्पूर्ण होती है।

द्रिक पञ्चाङ्ग की सम्पूर्ण मण्डली आप सभी को होली की हार्दिक शुभकामनायें देती है।
10.160.15.235
facebook button