deepak

१९१३ गोवर्धन पूजा का दिन और समय उज्जैन, मध्यप्रदेश, भारत के लिए

deepak
Useful Tips on
Panchang
Switch to English
Empty
Title
१९१३ गोवर्धन पूजा
वर्ष:
ग्लोब
अपना शहर खोजें:
१९१३ गोवर्धन पूजा और बालि प्रतिपदा का दिन और समय उज्जैन, भारत के लिए
दीवाली पूजा मुहूर्त, पूजा विधि, आरती, चालीसा आदि के लिए शुभ दीवाली ऐप इनस्टॉल करें
शुभ दीवाली ऐपशुभ दीवाली ऐप

गोवर्धन पूजा

३०वाँ
अक्टूबर १९१३
(बृहस्पतिवार)
गोवर्धन पूजा
गोवर्धन पूजा

गोवर्धन पूजा और बालि प्रतिपदा मुहूर्त


गोवर्धन पूजा प्रातःकाल मुहूर्त = ०६:३४ से ०८:४९
अवधि = २ घण्टे १४ मिनट्स
गोवर्धन पूजा सायंकाल मुहूर्त = १५:३२ से १६:५४
अवधि = १ घण्टा २१ मिनट्स
प्रतिपदा तिथि प्रारम्भ = २९/अक्टूबर/१९१३ को १९:५८ बजे
प्रतिपदा तिथि समाप्त = ३०/अक्टूबर/१९१३ को १६:५३ बजे
टिप्पणी - २४ घण्टे की घड़ी उज्जैन के स्थानीय समय के साथ और सभी मुहूर्त के समय के लिए डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है)।
१९१३ गोवर्धन पूजा और बालि प्रतिपदा

अधिकतर गोवर्धन पूजा का दिन दीवाली पूजा के अगले दिन पड़ता है और इस दिन को भगवान कृष्ण द्वारा इन्द्र देवता को पराजित किये जाने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। कभी-कभी दीवाली और गोवर्धन पूजा के बीच एक दिन का अन्तराल हो सकता है।

धार्मिक ग्रन्थों में कार्तिक माह की प्रतिपदा तिथि के दौरान गोवर्धन पूजा उत्सव को मनाने का बताया गया है। हिन्दु कैलेण्डर में गोवर्धन पूजा का दिन अमावस्या तिथि के एक दिन पहले भी पड़ सकता है और यह प्रतिपदा तिथि के प्रारम्भ होने के समय पर निर्भर करता है।

गोवर्धन पूजा को अन्नकूट पूजा भी कहा जाता है। इस दिन गेहूँ, चावल जैसे अनाज, बेसन से बनी कढ़ी और पत्ते वाली सब्जियों से बने भोजन को पकाया जाता है और भगवान कृष्ण को अर्पित किया जाता है।

महाराष्ट्र में यह दिन बालि प्रतिपदा या बालि पड़वा के रूप में मनाया जाता है। वामन जो कि भगवान विष्णु के एक अवतार है, उनकी राजा बालि पर विजय और बाद में बालि को पाताल लोक भेजने के कारण इस दिन उनका पुण्यस्मरण किया जाता है। यह माना जाता है कि भगवान वामन द्वारा दिए गए वरदान के कारण असुर राजा बालि इस दिन पातल लोक से पृथ्वी लोक आता है।

अधिकतर गोवर्धन पूजा का दिन गुजराती नव वर्ष के दिन के साथ मिल जाता है जो कि कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष के दौरान मनाया जाता है। गोवर्धन पूजा उत्सव गुजराती नव वर्ष के दिन के एक दिन पहले मनाया जा सकता है और यह प्रतिपदा तिथि के प्रारम्भ होने के समय पर निर्भर करता है।
10.160.15.199
facebook button