Mesha RashifalVrishabha RashifalKanya RashifalDhanu RashifalMeena RashifalRashifal
Sign InSign In SIGN IN
hi.drikPanchang.com
deepak

१९०९ बंगाल काली पूजा का दिन और समय उज्जैन, मध्यप्रदेश, भारत के लिए

deepak
Useful Tips on
Panchang
Switch to English
Empty
Title
१९०९ बंगाल काली पूजा
वर्ष:
ग्लोब
अपना शहर खोजें:
१९०९ बंगाल काली पूजा का दिन और समय उज्जैन, भारत के लिए
दीवाली पूजा मुहूर्त, पूजा विधि, आरती, चालीसा आदि के लिए शुभ दीवाली ऐप इनस्टॉल करें
शुभ दीवाली ऐपशुभ दीवाली ऐप

काली पूजा

१२वाँ
नवम्बर १९०९
(शुक्रवार)
काली पूजा
बंगाल में निशिता काल काली पूजा

काली पूजा मुहूर्त


काली पूजा निशिताकाल = २३:४५ से २४:३७
अवधि = ० घण्टे ५२ मिनट्स
अमावस्या तिथि प्रारम्भ = १२/नवम्बर/१९०९ को ०५:३६ बजे
अमावस्या तिथि समाप्त = १३/नवम्बर/१९०९ को ०७:४८ बजे
टिप्पणी - २४ घण्टे की घड़ी उज्जैन के स्थानीय समय के साथ और सभी मुहूर्त के समय के लिए डी.एस.टी समायोजित (यदि मान्य है)।
१९०९ काली पूजा, श्यामा पूजा

काली पूजा एक हिन्दु त्योहार है जो देवी काली को समर्पित है। दीवाली उत्सव के दौरान अमावस्या तिथि के दिन काली पूजा को मनाया जाता है। भारत में दीवाली के दौरान अमावस्या तिथि पर अधिकतर लोग जब देवी लक्ष्मीजी की पूजा करते हैं तब पश्चिम बंगाल, उड़ीसा और असम में दीवाली के दौरान अमावस्या तिथि पर लोग देवी काली की पूजा करते हैं।

अधिकांश वर्षो में दीवाली पूजा और काली पूजा एक ही दिन होते हैं लेकिन कुछ वर्षो में काली पूजा दीवाली पूजा से एक दिन पहले पड़ जाती है। काली पूजा के लिए मध्यरात्री का समय, जब अमावस्या तिथि प्रचलित होती है, उपयुक्त माना जाता है जबकि लक्ष्मी पूजा के लिए प्रदोष का समय, जब अमावस्या तिथि प्रचलित होती है, उपयुक्त माना जाता है।

पश्चिम बंगाल, उड़ीसा और असम में देवी लक्ष्मी की पूजा के लिए सबसे प्रमुख दिन अश्विन माह की पूर्णिमा के दिन होता है। अश्विन माह में पूर्णिमा तिथि के दिन लक्ष्मी पूजा को कोजागर पूजा के नाम से जाना जाता है और सामान्यतः बंगाल लक्ष्मी पूजा के रूप में जाना जाता है।

काली पूजा को श्यामा पूजा के नाम से भी जाना जाता है।
10.160.0.26
facebook button