deepak

कृष्ण जन्माष्टमी पूजा विधि | कृष्ण जन्माष्टमी के दौरान षोडशोपचार कृष्ण पूजा

deepak
Useful Tips on
Panchang
जन्माष्टमी पूजा विधि
Switch to English
Empty
Title
जन्माष्टमी पूजा विधि
कृष्ण जन्माष्टमी पूजा विधि
यह पृष्ठ कृष्ण जन्माष्टमी के समय की जाने वाली श्री कृष्ण पूजा के सभी चरणों का वर्णन करता है। इस पृष्ठ पर दी गयी पूजा में षोडशोपचार पूजा के सभी १६ चरणों का समावेश किया गया है और सभी चरणों का वर्णन वैदिक मन्त्रों के साथ दिया गया है। जन्माष्टमी के दौरान की जाने वाली श्री कृष्ण पूजा में यदि षोडशोपचार पूजा के सोलह (१६) चरणों का समावेश हो तो उसे षोडशोपचार जन्माष्टमी पूजा विधि के रूप में जाना जाता है।
  1. ध्यानम् (Dhyanam)
    भगवान श्री कृष्ण का ध्यान पहले से अपने सम्मुख प्रतिष्ठित श्रीकृष्ण की नवीन प्रतिमा में करें।
    पूजा दीपकजन्माष्टमी पूजनपूजा दीपक
    श्री कृष्ण अभिषेक
    Dhyana Mantra
  2. आवाहनं (Avahanam)
    भगवान श्री कृष्ण का ध्यान करने के बाद, निम्न मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण की प्रतिमा के सम्मुख आवाहन-मुद्रा दिखाकर, उनका आवाहन करें।
    Avahana Mantra
  3. आसनं (Asanam)
    भगवान श्री कृष्ण का आवाहन करने के बाद, निम्न मन्त्र पढ़ कर उन्हें आसन के लिये पाँच पुष्प अञ्जलि में लेकर अपने सामने छोड़े।
    Asana Mantra
  4. पाद्य (Padya)
    भगवान श्री कृष्ण को आसन प्रदान करने के बाद, निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए पाद्य (चरण धोने हेतु जल) समर्पित करें।
    Padyam Mantra
  5. अर्घ्य (Arghya)
    पाद्य समर्पण के बाद, भगवान श्री कृष्ण को अर्घ्य (शिर के अभिषेक हेतु जल) समर्पित करें।
    Arghyam Mantra
  6. आचमनीयं (Achamaniyam)
    निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए आचमन के लिए श्रीकृष्ण को जल समर्पित करें।
    Achamana Mantra
  7. स्नानं (Snanam)
    आचमन समर्पण के बाद, निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण को जल से स्नान कराएँ।
    Snanam Mantra
  8. वस्त्र (Vastra)
    स्नान कराने के बाद, निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण को मोली के रूप में वस्त्र समर्पित करें।
    Vastra Mantra
  9. यज्ञोपवीत (Yajnopavita)
    वस्त्र समर्पण के बाद, निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण को यज्ञोपवीत समर्पित करें।
    Yajnopavitam Mantra
  10. गन्ध (Gandha)
    निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण को सुगन्धित द्रव्य समर्पित करें।
    Gandha Mantra
  11. आभरणं हस्तभूषण (Abharanam Hastabhushan)
    निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण के श्रृंगार के लिये आभूषण समर्पित करें।
    Abharanam Hastabhushan Mantra
  12. नाना परिमल द्रव्य (Nana Parimala Dravya)
    निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण को विविध प्रकार के सुगन्धित द्रव्य समर्पित करें।
    Nana Parimala Dravya Mantra
  13. पुष्प (Pushpa)
    निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण को पुष्प समर्पित करें।
    Pushpa Mantra
  14. अथ अङ्गपूजा (Atha Angapuja)
    निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए भगवन कृष्ण के अङ्ग-देवताओं का पूजन करना चाहिये। बाएँ हाथ में चावल, पुष्प व चन्दन लेकर प्रत्येक मन्त्र का उच्चारण करते हुए दाहिने हाथ से श्री कृष्ण की मूर्ति के पास छोड़ें।
    Angapuja Mantra
  15. धूपं (Dhupam)
    निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण को धूप समर्पित करें।
    Dhupa Mantra
  16. दीपं (Deepam)
    निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण को दीप समर्पित करें।
    Deepam Mantra
  17. नैवेद्य (Naivedya)
    निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण को नैवेद्य समर्पित करें।
    Naivedya Mantra
  18. तांबूलं (Tambulam)
    निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण को ताम्बूल (पान, सुपारी के साथ) समर्पित करें।
    Tambulam Mantra
  19. दक्षिणा (Dakshina)
    निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण को दक्षिणा समर्पित करें।
    Achamana Mantra
  20. महा नीराजन (Maha Nirajan)
    निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण को निराजन (आरती) समर्पित करें।
    Maha Nirajan Mantra
  21. प्रदक्षिणा (Pradakshina)
    अब श्रीकृष्ण की प्रदक्षिणा (बाएँ से दाएँ ओर की परिक्रमा) के साथ निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण को फूल समर्पित करें।
    Pradakshina Mantra
  22. नमस्कार (Namaskar)
    निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए श्रीकृष्ण को नमस्कार करें।
    Namaskar Mantra
  23. क्षमापन (Kshamapan)
    निम्न-लिखित मन्त्र पढ़ते हुए पूजा के दौरान हुई किसी ज्ञात-अज्ञात भूल के लिए श्रीकृष्ण से क्षमा-प्रार्थना करें।
    Kshamapan Mantra
10.160.15.213
facebook button