Chhath
Nahay Khay - 24 Oct (Tue)
Lohanda and Kharna - 25 Oct (Wed)
Chhath Puja - 26 Oct (Thu)
Usha Arghya - 27 Oct (Fri)
hi.drikPanchang.com
deepak

२०१७ दीवाली पूजा, दीपावली पूजा कैलेण्डर उज्जैन, मध्यप्रदेश, इण्डिया के लिए

deepak
Switch to English
Empty
Title
२०१७ दीवाली पूजा कैलेण्डर
वर्ष:
ग्लोब
अपना शहर खोजें:
२०१७ दीवाली पूजा, दीपावली पूजा के दिन उज्जैन, इण्डिया के लिए

दीपावली का दिन १


गोवत्स द्वादशी
१६th
अक्टूबर २०१७
(सोमवार)

दीपावली का दिन २


धनतेरस पूजा
१७th
अक्टूबर २०१७
(मंगलवार)

दीपावली का दिन ३


नरक चतुर्दशी
१८th
अक्टूबर २०१७
(बुधवार)

दीपावली का दिन ४


दीवाली लक्ष्मी पूजा
१९th
अक्टूबर २०१७
(बृहस्पतिवार)
Diwali Deepak


दीपावली का दिन ६


भैया दूज
२१st
अक्टूबर २०१७
(शनिवार)
२०१७ दीवाली कैलेण्डर, दीपावली कैलेण्डर

Goddess Lakshmi
दीवाली जिसे दीपावली के नाम से भी जाना जाता है, साल का सबसे प्रसिद्ध त्योहार है। दीवाली उत्सव धनतेरस से शुरू होता है और भैया दूज पर समाप्त होता है। अधिकतर प्रान्तों में दीवाली की अवधि पाँच दिनों की होती है जबकि महाराष्ट्र में दीवाली उत्सव एक दिन पहले गोवत्स द्वादशी के दिन शुरू हो जाता है।

इन पाँच दिनों के दीवाली उत्सव में विभिन्न अनुष्ठानों का पालन किया जाता है और देवी लक्ष्मी के साथ-साथ कई अन्य देवी देवताओं की पूजा की जाती है। हालाँकि दीवाली पूजा के दौरान देवी लक्ष्मी सबसे महत्वपूर्ण देवी होती हैं। पाँच दिनों के दीवाली उत्सव में अमावस्या का दिन सबसे महत्वपूर्ण दिन होता है और इसे लक्ष्मी पूजा, लक्ष्मी-गणेश पूजा और दीवाली पूजा के नाम से जाना जाता है।

दीवाली पूजा केवल परिवारों में ही नहीं, बल्कि कार्यालयों में भी की जाती है। पारम्परिक हिन्दु व्यवसायियों के लिए दीवाली पूजा का दिन सबसे महत्वपूर्ण होता है। इस दिन स्याही की बोतल, कलम और नये बही-खातों की पूजा की जाती है। दावात और लेखनी पर देवी महाकाली की पूजा कर दावात और लेखनी को पवित्र किया जाता है और नये बही-खातों पर देवी सरस्वती की पूजा कर बही-खातों को भी पवित्र किया जाता है।

दीवाली के दिन लक्ष्मी पूजा करने के लिए सबसे शुभ समय सूर्यास्त के बाद का होता है। सूर्यास्त के बाद के समय को प्रदोष कहा जाता है। प्रदोष के समय व्याप्त अमावस्या तिथि दीवाली पूजा के लिए विशेष महत्वपूर्ण होती है। अतः दीवाली पूजा का दिन अमावस्या और प्रदोष के इस योग पर ही निर्धारित किया जाता है। इसलिए प्रदोष काल का मुहूर्त लक्ष्मी पूजा के लिए सर्वश्रेस्ठ होता है और यदि यह मुहूर्त एक घटी के लिए भी उपलब्ध हो तो भी इसे पूजा के लिए प्राथमिकता दी जानी चाहिए।
130.211.247.28
Google+ Badge
 
facebook button